Karwa Chauth ki kahani

Ek seth ke seven bete aur ek beti thi.  Saat bhaiyo ki ek bhahan bahut ladali thi. Bahut choti umar maine uska shadi ho gaya tha. Shadi ke baad uska pehla karwa chauth ka varat aaya. Jab saare bhai khana khane bethe to apni bhahan ko bhukha dekh kar unhe bahut dukh hua. Shaam ho chuki thi bhaiyo ne gaav ke teele par kuch lakadiya jalai aur us par chalani rakh di. Bhahan ko aakar kaha ki dekho chand nikal aaya hai. Bhahan ne bhabhiyo ko aarag dene ke liye aawaz lagai magar bhabhiyo ne kaha, aapka chand nikala hai hamara nahi, phir bhi vah samajh nahi pai. Usne akele hi aarag de diya aur khana khane bethe gayi. Jaise hi usne phehla tukara liya usme baal nikla, dusra liya tab chik mari, aur tisara lete hi sasural se koi lene aa gaya kyoki uska pati bimar tha. Uski Maa ne use usi waqt sasural bhej diya aur kaha ki sasural maine sabhi ko pranam karna. Vaha pahuchte hi usne jhule maine bethi jethe ki ladki ko pranam kiya, usne "Akhand So bhagya wati" ka aashirwad diya. Andar jane par pata chala ki uska pati jeevit nahi hai. Usne parivar valo se kaha ki gaav ke bhar ek jhopadi banakar usme inhe chod dijiye maine inki dekhbhaal karugi. Sabhi ne uski baat maan li aur kuch khane pine ka saaman bhi rakh diya. Usne tees pathar bhi saath rakh liye, rojana ek pathar alag rakh deti thi. Jab vo tees pathar alag jagah jama ho jate us din vo Karwa Chauth ka varat karti. Chauth Mata ko churma ka ladoo aur ek lota pani chadhati. Har mahine ki chauth mata use agle mahine ki chauth mata se shama yachana{maafi maagne} karne ko kahti. Is tarah din bitane lage. Karwa chauth ke phele vali chauth aayi. Usne chauth mata ke paav pakad liye. Chauth mata ne kaha, kartik mahine ki chauth mata se shama maagna, unke paav mat chodna. Karwa chauth ka din aaya. Chauth mata aai, kahne lagi karwa pi, karwa pi, saath bhaiyo ki bhahan karwa pi, jutha varat karne vali karwa pi, chalani maine chand dekhne vali karwa pi. Usne sunte hi chauth mata ke paav pakad liye aur shama maagne lagi aur kahne lagi maine choti se anjaan kuch bhi samajh nahi pai, aap dayalu hai mera " Shuhaag" lota dijiye. Chauth Mata ko daya aa gayi, roli, chaval, mahandi ke chite lagaye ,usi samay uska pati jeevit ho gaya ,phir raat ko chopad khelne lage. Subah hote hi unhone ghar par samachar bhijva diya. Sabhi parivar vale apne bete-bahu ko gaaje baaje ke saath ghar le gaye. Khushiya lot aayi. Hey Chauth Mata: hamari sabhi galtiyo ko shama karna aur sabhi ka Shuhaag banaye rakhna.

एक  सेठ  के  सात  बेटे  और  एक  बेटी थी ।  सात भाईयों कि एक  बहन  बहुत लाड़ली थी। बहुत छोटी उम्र में उसका विवाह हो गया था।  शादी  के बाद उसका पहला "करवा चौथ " का व्रत आया।  जब सातों भाई  भोजन के लिए बैठे तो अपनी बहन को भूखा देखकर उन्हें  बहुत दुःख् हुआ। शाम हो चुकी थी, भाइयों ने गाँव के टीले पर कुछ लकड़ियाँ  जलाई  और  उस पर छलनी रख दी।  फिर बहन को आ कर कहा की "देखो चाँद निकल आया है"।  बहन ने भाभीयों  को अरग  देने के लिए आवाज़ लगाई, मगर भाभीयों ने कहा " आपका चाँद निकला है, हमारा नहीं"। फिर भी वह समझ नहीं पाई, उसने अकेले ही अरग दे दिया और भोजन करने बैठ गई। जैसे ही उसने पहला निवाला लिया, उसमे (केश) बाल निकला, दूसरा निवाला लिया तो उसे छींक आई , और तीसरा नीवला लेते ही ससुराल से कोई लेने गया, क्योंकि उसका पति अस्वस्थ्य था।  उसकी माँ  ने उसी समय उसे ससुराल भेज दिया और कहा की ससुराल में सभी के पैर छूना और प्रणाम करना।  जेठूति ने " अखण्ड सौभाग्यवती" का आशीर्वाद दिया।  अंदर पहुंचने पर पता चला उसका पति जीवित नहीं है।  उसने परिवार वालों से कहा की गाँव के बाहर झोपड़ी में इन्हे छोड़ दीजिये, मैं इनकी देखभाल करूंगी।  सभी ने उसकी बात मान ली,  और कुछ खाने-पीने का सामन भी रख दिया।  उस लड़की ने तीस (३०) छोटे - छोटे पत्थर रख लिए, रोजाना एक पत्थर अलग रख देती। जब तीस(३०) पत्थर अलग जगह जमा हो जाते तो उस दिन चौथ का व्रत करती।  चौथ-माता को चूरमे का लड्डू और एक गड्डी ( गिलास ) पानी चढ़ाती। हर महीने की चौथ-माता अगले महीने की चौथ-माता से क्षमा याचना करने के लिए कहती। इस तरह  दिन बीतने लगे।  करवा चौथ के पहले वाली चौथ आई, उसने चौथ-माता के पैर पकड़ लिए, चौथ-माता ने कहा, " कार्तिक महीने की चौथ-माता से क्षमा मांगना, उनके पैर मत छोड़ना"।

" करवा-चौथ का दिन आया, चौथ-माता आई, कहने लगी; "करवा-पी, करवा-पी , छलनी में चाँद देखने वाली करवा पी"।  यह सुनते ही उसने चौथ-माता के पैर पकड़ लिए और क्षमा मांगने लगी, कहा की, " मैं छोटी सी अनजान कुछ भी समझ नहीं पाई, आप दयालु हैं, मेरा सुहाग लौटा दीजिये"।   चौथ-माता को दया आ गई।  उन्होंने रोली, मेहंदी, चावल  के छींटे लगाए, उसी समय उस का  पति जीवित हो गया, फिर रात को दोनों चौपड़ खेलने लगे।  सुबह होते ही उन्होंने घर पर समाचार भिजवाया।  सभी परिवार वाले गाजे-बजे के साथ अपने बेटे-बहु को  घर ले गये। खुशियां लौट आईं।  हे चौथ-माता! हमारी सभी गलतियों को क्षमा करना और हमारा अमर सुहाग बनाये रखना। 

Ganesh Ji Ki Kahani

Ek talab maine ek mehdk aur ek mehdki rahte thai. Mehdki hamesha bhagwan Ganeshji ka naam lete hue Jai Ganesh,Jai Ganesh kahti. Vah mehdk ko bhi Ganeshji ka naam lene ko kahti lekin mehdk hamesha mana karta tha. Ek din ek aurat talab maine pani bharne ke liye aayi aur ghare maine pani bhar ke ghar le gayi. Pani ke saath saath ghare maine mehdk aur mehdki bhi chale gaye. Ghar jake aurat ne pani ke ghare ko ubalne rakh diya. Jaise hi pani ubalne laga vaise hi mehdk aur mehdki ko garam lagne laga. Mehdk ne mehdki se kaha ki maine jal raha hu. Tab mehdki ne kaha ki bhagwan Ganeshji ka naam lo ab vahi hume bacha sakte hai. Usne kaha ki maine tumhe hamesha kahti thi lekin tum kabhi nahi mante thai. Tab mehdk bola ki chalo ab hum dono saath saath bhagwan Ganeshji ka jaap karege. Vah dono Jai Ganesh Jai Ganesh bolne lage. Tabhi Ganeshji ne ghare par pathar feka. Ghara foot gaya. Mehdk aur mehdki uchal kar sankat se bhar nikal gaye. Hey bhagwan Ganeshji, jaise aapne mehdk aur mehdki ka sankat dur kiya vaise hi aap hamara sankat bhi dur kare.

एक तालाबमे एक मेंढक और एक मेंढकि रहते थे। मेंढकि हमेशा भगवान गणेशजी का नाम लेते हुवे जय गणेश, जय गणेश कहती। वह मे़ढक को भी गणेशजी का नाम लेने कहती लेकिन मेंढक हमेशा मना करता था। एक दिन एक औरत तालाब में पानी भरने के लिये आयी और घड़े में पानी भर के घर ले गयी। पानी के साथ साथ घड़े में मेंढक और मेंढकि भी चले गये। घर जाके औरत ने पानी के घड़े को उबालने रख दिया। जैसे ही पानी उबलने लगा वैसे हि मेंढक और मेंढकि को गरम लगने लगा। मेंढक ने मेंढकि से कहा कि मैं जल रहा हूँ। तब मेंढकि ने कहा कि भगवान गणेशजी का नाम लो अब वही हमे बचा सकते है। उसने कहाँ कि मैं तुम्हें हमेशा कहती थी लेकिन तुम कभी नहीं मानते थे़। तब मेंढक बोला कि चलो अब हम दोनों साथ साथ भगवान गणेशजी का जप करेंगे। वह दोनों जय गणेश जय गणेश बोलने लगे। तभी गणेशजी ने घड़े पर पत्थर फेंका। घड़ा फूट गया। मेंढक और मेंढकि उछल कर संकट से बाहर निकल गयें। हे भगवान गणेश, जैसे आपने मेंढक और मेंढकि का संकट दूर किया वैसे ही आप हमारा संकट भी दूर करे।

Footer

Powered by Wild Apricot Membership Software