Teej Kahaani (1)

Ek sahukaar tha, usko 7 bete thai, 6 bahuo ke pihar se teej par satu mithaiya aur saari aur meva aata tha, magar 7th bahu ke pihar maine koi bhi nahi tha isley uske pihar se kuch nahi aata tha. Devar jethaniya majak banate thai. Ek baar badi teej aai, 6 bahuyo ke pihar se satu aaya aur ladu saariya aai. Saari bahuyo ne uska majak udaya, 7th bahu udaas ho gayi. Vo maan maine sochne lagi, agar mere pihar maine bhi koi hota to mere liye bhi yeh sab aata. Ye dekh kar uska pati bahut dukhi ho gaya. Usne kaha tum chinta mat karo, maine tumhare liye ye sab launga. Vo bazar gaya, vaha ek sahukaar apni dukaan per betha tha. Uska pati dihree se dukaan maine chup gaya, raat hone par vo sahukaar so gaya, uske pati ne dhiree se ghati li aur sike hue chane pisane laga, vah aawaj sunkar sahukaar ki nind khul gayi, vaha log aakar sahukaar ko kahne lage, aapki dukaan maine chor hai, sahukaar ne darvaza khola aur dekha ek aadmi ek satu ka pinda, 4 ladu  aur ek saari lekar ja raha hai, sahukaar ne pucha ye tum kya kar rahe ho? Uske pati ne kaha maine chor nahi hu, meri patni ka koi pihar nahi hai, maine uske liye ye sab le ja raha hu, meri bhabhiya usko taane deti hai. Meri patni bahut dukhi hai. Tab sahukaar ne bola ab tum ghar jao, aaj se tumhari patni meri dharam beti hai. Aaj se hum uske Maa Baap hai, hum sab saaman tumhare ghar pahucha denge. Agar kisi kaarn vash kisi ke pihar se satu nahi aa pata hai, to vah ghar maine bhi satu bana sakte hai.

Hey Teej mata sabko apna pihar dena.

बड़ी तीज की कहानी। एक साहूकार था,उसको सात बेटे थे, छ बहुओ के पीहर से तीज पर सत्तु मिठाईया ओर साड़ी ओर मेवा आता था,मगर सातवी बहुके पीहर मे कोई भी नहीं था इसलिए उसके पीहर से कुछ नहीं आता था। देवर जेठानिया मजाक बनती थीं। एक बार बड़ी तीज आई,छ बहुओ के पीहर से सातू आया और लाडू साड़िया आई। सारी बहुओ ने उसका मजाक उडाया ,सातवी बहु उदास होगई। वो मनमे सोचने लगी ,अगर मेरे पीहरमे भी कोई होता तो मेरे लिये भी ये सब आता। ये देखकेर उसका पती बहुत दुखी हो गया। उसने कहा तुम चिन्ता मत करो , मै तुम्हरे लिये ये सब लाऊगा। वो बाज़ार गया ,वहा एक साहुकार अपनी दुकान पर बैठाथा।उसका पति धीरेसे दुकानमे छुपगया, रात होने पर वोह साहूकार सोगया,उसका पति धीरे से घटी लिया और फुटाने(सीके हुये चने ) पीसने लगा, वह आवाज़ सुनकर साहूकार की नींद खुलगई, वहा लोग आकर साहूकार को कहने लगे, आपकी दुकान मे चोर है, सहूकार ने दरवाजा खोला और देखा एक आदमी एक सातुका पिंडा,चार लाडू और एक साड़ी लेकर जा रहा है , साहूकारने पूछा ये तुम किया कर रहे हो? उसके पतिने कहा मै चोर नहीं हू ,मेरी पत्नी का कोई पीहर नही है, मै उसके लिये ये सब ले जा रहा हूँ ,मेरी भाभियां उसकों ताने देती है। मेरी पत्नी बहुत दुखी है। तब सहुकारने बोला अब तुम घर जाओ आजसे तुम्हारी पत्नी हमारी धरम बेटी है। आजसे हम उसके माबाप है , हम सब सामान तुम्हारे घर पहुचा देगे।अगर किसी कारण किसी के पीहर से सातू नहीं आ पाता है , तो वह घरमे भी सातू बना सकते हैं । हे तीजमाता सबको अपना पीहर देना।

Teej Kahaani (2)

Ek aurat apne pati se bahut pyaar karti thi. Uska pati hamesha bimar rehta tha. Pati ki roz vaishya ke yahan jakar paisa kharch karne ki buri aadat thi. Patni apne pati ko hamesha samjhati aur vaishya ke pass jane ke liye mana karti, par vo nahi manta tha isliye vo log gareeb ho gaye.

Patni roz jethaniyon ke yahan kaam karti aur ghar ka kharcha chalati thi. Teej ka samay aaya to usne jethaniyon ke liye satu ka aata peesa. Uske baat chakki ko saaf karke bache hue aate se apna satu banaya.

Teej ki shaam jaise hi patni pooja karne baithi, pati bola ki usko vaishya ke paas chodkar aa. Vo apne pati ko peeth par baithakar vaishya ke yahan chod aayi. Pati wapas ghar aata, vapas vaishya ke yahan chodne ke liye kehta. Patni ne aisa 6 baar kiya. Saatvi baar chodkar ghar wapas aate samay raste main talaab ke kinare neemdi thi, talaab main patal tair rahi thi. Usme pooja ka samaan aur satu pada tha. Tabhi ek aawaz aayi ki yeh patal ko ghar le jao aur teej mata ki pooja karke satu paso, usse tumhara pati aur dhan wapas mil jaega. Vah patal ka samaan lekar ghar aayi aur fir pooja karne baithi. Pooja karke satu pasne baithi to fir se pati ki aawaaz aayi; patni din bhar bhookhi aur pyasi thi, fir bhi usne pati ke liye darwaza khola. Usne dekha ki uska pati theek ho gaya hai aur sara dhan wapas lekar aaya hai. Pati bola ki main ab vaishya ke paas kabhi nahi jaunga.

Fir dono ne sath satu pasa aur vah khushi khushi rehne lage. Hey teej mata, jaise un dono ki khushitya lauta di, waise hi hum sabko khush rakhna. 

एक औरत अपने पति से बहुत प्यार करती थी । उसका पति हमेशा बिमार रहता था । पति की रोज वैश्या के यहॉं जाकर पैसा खर्च करने कि बुरी आदत थी । पत्नी अपने पति को हमेशा समझाती और वैश्या के पास जाने के लिये मना करती, पर वह नहीं मानता था इसी लिए वह लोग गरीब हो गये। पत्नी रोज़ जेठानियों के यहाँ काम करती और घर का खर्च चलती थी । तीज का समय आया तो उसने जेठानियों के लिये सातु का आटा पिसा । उसके बाद चक्की को साफ़ करके बचे हुए आटे से अपना सातु बनाया । तीज की शाम जैसे ही पत्नी पुजा करने बैठी, पति बोला कि उसको वैश्या के पास छोड़ कर आ । वह अपने पति को पीठ पर बैठाकर वैश्या के यहाँ छोड़ आयी । पति वापस घर आता, वापस वैश्या के यहाँ छोड़ने के लिये कहता । पत्नी ने ऐसे ६ बार किया । सात्वी बार छोडकर घर वापस आते समय रास्ते में तालाब के किनारे नीमड़ी थीं, तालाब मे पातल तैर रही थी । उसमे पूजा का सामान और सातु पडा था । तभी एक आवाज़ आयी की यह पातल को घर ले जाओ और तीज माता कि पूजा करके सातु पासो, उससें तुमहारा पति और धन वापस मिल जायेगा । वह पातल का सामान लेकर घर आई और फिर पूजा करने बैठी । पूजा करके सातु पासने बैठीं तो फिर से उसके पति की आवाज़ आयी ; पत्नी दिन भर की भूखी और प्यासी थी , फिर भी उसने पति के लिये दरवाज़ा खोला । उसने देखा की उसका पति ठीक हो गया है और सारा धन वापस लेकर आया है । पति बोला की मै अब वैश्या के पास वापस कभी नहीं जाऊंगा । फिर दोनों ने साथ सातू पासा और वह खुशी-खुशी रहने लगे । है तीज माता जैसे उन दोनो की ख़ुशियाँ लौटा दी वैसे हि हम सबको खुश रखना ।

Teej Kahaani (3)

Ek  seth ke do betiyaan thi.  Dono saatu teej ka vrat karti thi.  Puja ke baad badi beti saatu ke saath neemki patti saatu ke saath kha lethi thi. Choti beti saatu ke saath neem ki patti nahin khana chahti thi, kyon ki useh who kadva lagta tha. Kuch samay badh dono ki shaadi ho gayi. Badi beti ke sasural mein useh bahut pyar mila.Sab usseh bahut khush thei.  Par choti beti sasural mein khush nahin thi. Uska sabse jhagda hota tha.

Saatu teej par dono maa ke ghar aayee. Dono maa ko apne dil ka haal batane lagee. Maa ko badi beti khush lagee aur choti beti dukhi lagee. Maa ko chinta hone lagee. Maa ne choti ko samjaaya ki saatu teej par neem khate samay  neem ko hamesha kadva kehti thi aur badi wali hamesha usko meetha kehti thi. Jisne kadve neem to meetha samajkar khaya usko sabse pyar mila.  Choti beti  ne hamesha neem ko dukhi mann se khaya  toh who kabhi khush nahin rahi.

Maa ne kaha,” kuch bhi khao , kadva ya meetha useh prem se khana chahiye.” Maa ki baat mankar choti beti har teej par neem ka patta meetha samajkar khushi se khane lagee.

Uske baad choti ko bhi sasural mein pyar milne lagaa aur wah khush rehene lagee . Kehte hein joh bhi khaye  useh Bhagwan ka Prasad samajkar khaye.

एक सेठ के दो बेटियां थी । दोनों सातु तीज का व्रत करतीँ थी । पूजा के बाद बड़ी बेटी सातु के साथ नींम की पत्ति खुशि से खा लेती  थी । छोटी बेटी सातु के साथ नींम की पत्ति नही ख़ाना चहती थी क्योकि उसे वह कड़वा लगता था । कुछ समय बाद दोनो की शादी हो गयी । बड़ी बेटी के ससुराल में उसे बहुत प्यार मिला । सब उससे बहुत खुश थे । पर छोटी बेटी ससुराल में खुश नही थी । उसका सबसे झगड़ा होता था ।
सातु तीज पर दोनो माँ के घर आयी । दोनों माँ को अपने दिल का हाल बताने लगी । माँ को बड़ी बेटी खुश लगी और छोटी बेटी दुखी लागी । माँ को चिंता हुई । माँ ने छोटी को समझाया कि सातु तीज पर नीम खाते समय नीम को हमेशा कङवा कहतीं थी और बड़ी वाली हमेशा उस को मीठा कहतीं थी । जिसने कड़वे नीम को मीठा समझ कर खाया उसको सबसे प्यार मिला । छोटी बेटी ने हमेशा नीम को दुखी मन से खाया तो वह कभी खुश नहीं रही ।
माँ ने कहा " कुछ भी खाओ , कड़वा या मीठा उसे प्रेम से खाना  चहिये । " माँ की बात मान कर छोटी बेटी हर तीज  पर नीम का पत्ता मीठा समझ कर खुशी से खाने लगी ।
उसके बाद छोटी को भी  ससुराल में प्यार मिलने लगा और वह खुश रहने लगी । कहते है जो भी खाये  उसे भगवांन का प्रसाद समझ कर खाये ।

Ganeshji ki Kahaani

Ek talab maine ek mehdk aur ek mehdki rahte thai. Mehdki hamesha bhagwan Ganeshji ka naam lete hue Jai Ganesh,Jai Ganesh kahti. Vah mehdk ko bhi Ganeshji ka naam lene ko kahti lekin mehdk hamesha mana karta tha. Ek din ek aurat talab maine pani bharne ke liye aayi aur ghare maine pani bhar ke ghar le gayi. Pani ke saath saath ghare maine mehdk aur mehdki bhi chale gaye. Ghar jake aurat ne pani ke ghare ko ubalne rakh diya. Jaise hi pani ubalne laga vaise hi mehdk aur mehdki ko garam lagne laga. Mehdk ne mehdki se kaha ki maine jal raha hu. Tab mehdki ne kaha ki bhagwan Ganeshji ka naam lo ab vahi hume bacha sakte hai. Usne kaha ki maine tumhe hamesha kahti thi lekin tum kabhi nahi mante thai. Tab mehdk bola ki chalo ab hum dono saath saath bhagwan Ganeshji ka jaap karege. Vah dono Jai Ganesh Jai Ganesh bolne lage. Tabhi Ganeshji ne ghare par pathar feka. Ghara foot gaya. Mehdk aur mehdki uchal kar sankat se bhar nikal gaye. Hey bhagwan Ganeshji, jaise aapne mehdk aur mehdki ka sankat dur kiya vaise hi aap hamara sankat bhi dur kare.

एक तालाबमे एक मेंढक और एक मेंढकि रहते थे। मेंढकि हमेशा भगवान गणेशजी का नाम लेते हुवे जय गणेश, जय गणेश कहती। वह मे़ढक को भी गणेशजी का नाम लेने कहती लेकिन मेंढक हमेशा मना करता था। एक दिन एक औरत तालाब में पानी भरने के लिये आयी और घड़े में पानी भर के घर ले गयी। पानी के साथ साथ घड़े में मेंढक और मेंढकि भी चले गये। घर जाके औरत ने पानी के घड़े को उबालने रख दिया। जैसे ही पानी उबलने लगा वैसे हि मेंढक और मेंढकि को गरम लगने लगा। मेंढक ने मेंढकि से कहा कि मैं जल रहा हूँ। तब मेंढकि ने कहा कि भगवान गणेशजी का नाम लो अब वही हमे बचा सकते है। उसने कहाँ कि मैं तुम्हें हमेशा कहती थी लेकिन तुम कभी नहीं मानते थे़। तब मेंढक बोला कि चलो अब हम दोनों साथ साथ भगवान गणेशजी का जप करेंगे। वह दोनों जय गणेश जय गणेश बोलने लगे। तभी गणेशजी ने घड़े पर पत्थर फेंका। घड़ा फूट गया। मेंढक और मेंढकि उछल कर संकट से बाहर निकल गयें। हे भगवान गणेश, जैसे आपने मेंढक और मेंढकि का संकट दूर किया वैसे ही आप हमारा संकट भी दूर करे।


Lapsi Tapsi ki Kahaani

Ek Lapsi tha, ek Tapsi tha. Tapsi toh bhagwan ki tapasya karta tha aur lapsi sava ser laapsi banakar bhagwan ko bhog lagakar kha leta tha,

Ek din dono ladne lage. Lapsi bola mein bada aur tapsi bola mein bada hu. Itne mei Naaradji wahan padhare. Unhone pucha kit um dono kyun lad rahe ho. Tapsi ne kaha ki mein bada hun kyunki mein saare din tapasya karta hu. Naaradji ne kaha mein tumhara faisla kar duga. Dusre din Naaradji ne sava sava crore rupee ki anguthi unke aage gira di. Tapsi ne anguthi ghutne ke neeche chipakar rakh li aur tapasya karne laga.  Lapsi ne anguthi dekhakar use wahin chodh di aur laapsi ka bhog bhagwan ko lagakar kha gaya.

Doosre din Naaradji aaye aur tab dono ne pucha ki hum dono mein kaun bada hai? Naaradji ne Tapsi se pucha tumhare ghutne ke niche kya hai? Tapsi ne ghutna uthaya toh wahaan sava crore rupee ki anguthi nikli. Naaradji ne kaha itna tap aur dhyaan karne ke bawajud bhi tumhari chori karne ki aadat nahi gayi. Tumhari tapasya ka fal bekaar jayega. Isiiye lapsi bada hai. Tapsi bola maharaj mujhe meri tapasya ka fal kaise mil sakta hai? Naaradji ne kaha sab kahaniya kehne ke baad tumhari kahaani nahi kahege toh unka fal tumhe milega. Tab se sab kahaani kehne ke baad Lapsi Tapsi ki kahaani bhi kehte hai.

एक लपसी था, एक तपसी था। तपसी तो भगवान की तपस्या करता था और लपसी सवा सेर लपसी बनाकर भगवान को भोग लगाकर खा लेता था। एक दिन दोनों लड़ने लगे। लपसी बोला मैं बड़ा और तपसी बोला मै बड़ा हूं। इतने में नारद जी वहां पधारे। उन्होंने पूछा कि तुम दोनों क्यों लड़ रहे हो। तपसी ने कहा कि मैं बड़ा हूं क्योंकि मैं सारे दिन तपस्या करता हूं। नारद जी ने कहा मैं तुम्हारा फैसला कर दूंगा। दूसरे दिन नारद जी ने सवा-सवा करोड़ रुपए की अंगूठी उनके आगे गिरा दी। तपसी ने अंगुठी घुटने के नीचे छिपाकर रख ली और तपस्या करने लगा। लपसी ने अंगूठी देखकर उसे वहीं छोड़ दी और लपसी का भोग भगवान को लगाकर खा लिया। दूसरे दिन नारद जी आए और तब दोनों ने पूछा कि हम दोनों में कौन ब​ड़ा है? नारद जी ने तपसी से पूछा तुम्हारे घुटने के नीचे क्या है? तपसी ने घुटना उटाया तो वहां सवा करोड़ रुपए की अंगुठी निकली। नारद जी ने कहा इतना तप और ध्यान करने के बावजूद भी तुम्हारी चोरी करने की आदत नहीं गई। तुम्हारी तपस्या का फल बेकार जाएगा। इसलिए लपसी बड़ा है । तपसी बोला महाराज मुझे मेरी तपस्या का फल कैसे मिल सकता है? नारद जी ने कहा सब कहानियां कहने के बाद तुम्हारी कहानी नहीं कहेंगे तो उनका फल तुम्हें मिलेगा। तब से सब कहानी कहने के बाद लपसी तपसी की कहानी भी कहते हैं।

Footer

Powered by Wild Apricot Membership Software