Gangaur ki Kahaani (1)

Ek baar Mahadev ji (Shivji) aur Parvati ji dono sair karne nikale, saath maine Nandi ji ko bhi le liya. Phele gaon maine pahuchne par vaha bhethi chaar istriya kahne lagi "dekho ji, is Nandi ko dikhave ke liye saath rakha hai kya? Dono pedal chal rahe hai". Dusre gaon maine jab pahuche to Mahadev ji ne Parvati ji ko Nandi par betha diya. Tab vanha ki istriya kahne lagi ki 'dekho patani to javan hai aur vah Nandi par beth gayi hai aur bechara budha pedal chal raha hai'. Tisare gaon pahuche toh vaha Mahadev ji Nandi par beth gaye, Parvati ji pedal chalne lagi. Istriya boli aap to Nandi par bethe hai aur bechari ko pedal chala raha hai

 

Chothe gaon pahuche toh Mahadev ji aur Parvati ji dono Nandi par beth gaye. Vaha ki istriya boli ki 'dekho dono Nandi par beth gaye jaise Nandi ki koi jaan hi na ho'. Itna sunkar Mahadev ji Parvati ji se bole 'sansar chadhe ko bhi hasta hai aur pedal ko bhi hasta hai'. Isley logo ki kahi baat par dhayan na do aur vahi karo jo aapko sahi lagta hai.

Jis tarah Mahadev ji ne Parvati ji ko sair karai, vaise kahte sunte sabko sair karana.

गणगौर की कहानी (1)

एक बार महादेव जी ( शिवजी) और पार्वती जी दोनों सैर करने निकले, साथ में नंदी जी को भी ले लिया। पहले गांव में पहुंचने पर वहां बैठी चार स्त्रियाँ कहने लगीं ' देखो जी इस नंदी को दिखावे के लिए साथ रखा है क्या? दोनों पैदल चल रहे हैं।'  दूसरे गांव में जब पहुंचे तो महादेव ने पार्वती जी को नंदी पर बैठा दिया। तब वहां की स्त्रियां कहने लगीं कि 'देखो पत्नी तो जवान है और वह नंदी पर बैठ गई है और बेचारा बूढ़ा पैदल चल रहा है।' तीसरे गाँव पहुंचे वहां महादेवजी नंदी पर बैठ गए, पार्वतीजी पैदल चलने लगीं। स्त्रियां बोलीं आप तो नंदी पर बैठा है और इस बेचारी को पैदल चला रहा है। 
चौथे गांव  पहुंचे तो महादेव और पार्वती दोनों नंदी पर बैठ गए। वहां की स्त्रियां बोलीं कि 'देखो दोनों नंदी पर बैठ गए जैसे नंदी की कोई जान ही न हो।' इतना सुनकर महादेव जी पार्वती जी से बोले 'संसार चढ़े को भी हंसता है और पैदल को भी हंसता है। इसलिए लोगों की कही बात पर कान न दो और वही करो जो आपको सही लगता है। 
जिस तरह महादेव जी ने पार्वती जी को सैर कराई, वैसे कहते सुनते सबको सैर कराना।


Gangaur ki Kahaani (2)

Shivji parvatiji dono ek baar parvatiji ke make gaye. Shivji ka unke sasuraal mein bahut sanmaan hua. Gangaur ke din Parvatiji puja karne gayi. Shivji ne parvatiji ki mataji se kaha unhe bahut bhukh lag rahi hai. Parvatiji ki maa ne shivji ko bhijan parosa. Shivji ne rasoi mein bana pura bhojan kha liya. Ab ve lautne ki zidd karne lage. Parvatiji bathue ki pindi (fogle ki pindi) aur kuch bache hue fal khakar pani piker rawana ho gayi. Aage raste mein vishraam karne ke liye ped ke neeche baith gaye. Shivji ne pucha, “Parvatiji, aapne kya khaya?” Parvatiji boli jo aapne khaya wahi maine bhi khaaya. Thaki aur bhuki parvatiji so gayi. Shivji ne parvatiji ke pet ka dhakkan kholkar dekha. Wahaan Bathue (fogle) ki pindi, fal aur pani tha. Thodi der baad parvatiji sokar uthi toh Shivji ne kaha, “Mujhe maalum hai ki aapne aaj kya khaya hai.” Parvatiji ne kaha, “Aaj toh meri dhakni kholkar dekhi hai lekin aage se duniya mein kisi bhi stri ki dhakni nahi khulni chahiye. Uss din se sabke pet ki dhakni khulni bandh ho gai. Isiliye kehte hai, aurat ko peehar ki baat sasural mein aur sasuraal ki baat peehar mein nahi karni chahiye.

गणगौर की कहानी (2)

शिवजी पार्वती जी दोनों एक बार पार्वती जी के मायके गए। शिवजी का उनके ससुराल में  बहुत सम्मान हुआ। गणगौर के दिन पार्वती जी पूजा करने गईं। शिवजी ने पार्वतीजी की माताजी से कहा उन्हें बहुत भूख लग रही है। पार्वतीजी की माँ ने शिवजी को भोजन परोसा। शिवजी ने रसोई में बना पूरा भोजन खा लिया। अब वे लौटने की जिद करने लगे। पार्वतीजी बथुए की पिंडी (फोगले की पिंडी ) और कुछ बचे हुए फल खाकर पानी पीकर रवाना हो गईं। आगे रास्ते में विश्राम करने के लिए पेड के नीचे बैठ गए। शिवजी ने पूछा ' पार्वतीजी आपने क्या खाया? पार्वतीजी बोलीं जो आपने खाया वही मैंने भी खाया। थकी और भूखी पार्वतीजी सो गईं। शिवजी ने पार्वती जी के पेट का ढक्कन खोलकर देखा। वहां बथुए (फोगले ) की पिंड़ी, फल और पानी था। थोडी देर बाद पार्वतीजी सोकर उठीं तो शिवजी ने कहा ' मुझे मालूम है कि आपने आज क्या खाया है ' । पार्वतीजी ने कहा ' आज तो मेरी ढकनी खोलकर देखी है लेकिन आगे से दुनिया में किसी भी  स्त्री की ढकनी नहीं खुलनी चाहिए। उस दिन से सबके पेट की ढकनी खुलनी बंद हो गई। इसलिए कहते है औरत को पीहर की बात ससुराल में और ससुराल की बात पीहर में नहीं करना चाहिए.


Gangaur ki Kahaani (3)

Gangaur ke din kuch auratein mata gaura (Parwatiji) ki puja karne ke liye subah jaldi aa gai. Parwatiji ne saara suhaag unhe baat diya. Thodi der baad kuch aur auratein aai. Shiv bhagwan ne kaha ab inhe aap kya doge? Tab parwatiji ne apnea ankh se kaajal aur maang mein se sindoor nikala, tiki se roli nikali aur chitli (choti) anguli se amar suhaagin hone ke chitee de diye saath he aashirwaad diya. Hey bhagwan, katha kehne wale aur sun ne wale ko amar suhaag deve.

गणगौर की कहानी (3 )

गणगौर के दिन कुछ औरतें माता गौरा (पार्वतीजी) की पूजा करने के लिए सुबह जल्दी आ गईं। पार्वतीजी ने सारा सुहाग उन्हें बांट दिया। थोड़ी देर बाद कुछ और औरतें आंईं। शिव भगवान ने कहा अब इन्हें आप क्या देंगी?  तब  पार्वती जी ने अपनी आंख से काजल और मांग में से सिंदूर निकाला, टीकी से रोली निकाली और चिटली (छोटी)  अंगुली से अमर सुहागिन होने के छींटे दे दिए साथ ही आशिर्वाद दिया। हे भगवान !  कथा कहने वाले और सुनने वालों को अमर सुहाग देंवें।


Gangaur ki Kahaani (4)

Ek din Bhagwan Shiv aur Parvatiji kailash parvat se srushti ka bhraman karne ke liye neeche utre. Thodi der jaane par unhe gaay mili, uske bachaa hone wala tha, woh bohut tadap rahi thi. Parwatiji ne pucha maharaj isko kya hua hai? Tab Shivji ne kaha ki iske bachaa honewala hai, isiliye takleef mein hai. Parvatiji boli itna dukh pana padta hai toh maharaj merit oh gaanth he bandh do. Shivji bole meri baandhi hui gaanth wapas nahin khulegi, aao aage chale.

Aage gaye toh ek ghodi mili, uske bachaa hone wala tha, woh bhi bohut tadap rahi thi. Parvatiji boli “Mein toh itni takleef aur dard nahi sahan kar sakti, aap toh meri gaanth bandh do.” Shivji bole meri baandhi hui gaanth wapas nahi khulegi, aao aage chale.

Aage gaye toh ek pura nagar udaas aur sunsaan tha, kyunki raani ke santaan hone wali thi. Raani takleef mein thi. Parvatiji boli, merit oh gaanth baadh do, itna dukh paana pade toh gaanth bandhi hui achi hai. Parvatiji ke hath ko dekhkar bhagwaan ne gaanth baandh di.

Bhraman karne ke baad jab ve lautne lage to dekha jo nagar udaas tha wahaan rani ke ladka hua tha. Baaje baj rahe the, badhaiya bat rahi thi, sab khush the. Parvatiji boli maharaj meri bhi gaanth khol do, mujhe bhi bachha chahiye. Aage aane par ghodi ka bachha uske aage peeche ghum raha tha. Parvatiji bahut khush hui aur unhe dekhkar boli ki aisa beta mujhe bhi chahiye. Meri gaanth khol do. Aage gaye toh gaay ke bachda hua tha aur woh use pyar kar rahi thi. Parvatiji boli mujhe bhi bachaa chahiye, meri gaanth khol do. Shivji bole, “di hui gaanth ab nahin khul sakti.”

Ghumne ke baad dono kailash parvat par laute. Ek din parvatiji ne apne shareer par ubtan lagaya. Fir usse utarkar mail ka putla banaya. Putle ko jeevandaan dekar usse darwaze par pehre ke liye baitha diya aur kaha ki kisiko bhi andar nahi aane dena, mein nahaane jaa rahi hu. Thodi der mein vahaan shivji aaye. “Maharaj aap andar nahin jaa sakte, meri maa naha rahi hai” - Putla bola. Mahadevji bole, “ Kaun Maa?” kehkar trishul maara toh  uski garden utar gayi. Ve andar chale gaye. Parvatiji boli, “Aapko kisine roka nahi kya?” Mahadevji bole, “ Ek ziddi ladka rok raha tha, maine gusse mein uski garden utaar kar andar aaya hun” Parvatiji boli wah mera beta tha, usko vapis jeevit karo. Mahadevji ne apne gano ko aazya di, koi maa apne bache ki aur peeth karke soyi ho toh uske bachee ki garden utaar kar le aao.

Shivji ke gan chaaro aur gaye. Sab maatayen apne bachon ki aur muh karke soyi thi, lekin ek hathani apne bache ki aur peeth karke soi hui thi. Gan uss bache ki garden utaarkar laaye aur laakar putle ko laga di. Bachaa zinda ho gaya. Parvatiji uska vichitr rop dekhkar boli, “ise koi bhi pasand nahi karega.” Shivji bole iska naam Ganesh hoga. Sansaar mein sab log koi bhi puja karne se pehle Ganesh ki puja karege, fir doosri puja karege. Parvatiji Ganeshji jaisa putr paakar bahut khush hui. Hey Mahadev maharaj! Parvatiji ko beta diya waise hum sabko dena. Bhul Chuk shama karna.

गणगौर की कहानी (4)

एक दिन भगवान शिव और पार्वतीजी कैलाश पर्वत से सृष्टि का भ्रमण करने के लिए नीचे उतरे। थोड़ी दूर जाने पर उन्हें गाय मिली, उसके बच्चा होने वाला था, वह बहुत तड़प रही थी। पार्वतीजी ने पूछा महाराज इसको क्या हुआ है? तब शिवजी ने कहा कि इसके बच्चा होने वाला है, इसलिए तकलीफ में है। पार्वतीजी बोलीं इतना दुःख पाना पड़ता है तो महाराज मेरी तो गांठ ही बांध दो। शिवजी बोले मेरी बांधी हुई गांठ वापिस नहीं खुलेगी, आओ आगे चलें। 
आगे गए तो एक घोड़ी मिली,उसके बच्चा होने वाला था, वह भी तड़प रही थी। पार्वतीजी ने बोलीं ' मैं तो इतनी तकलीफ और दर्द नहीं सहन कर सकती, आप मेरे तो गांठ बांध दो। शिवजी बोले मेरी बांधी हुई गांठ वापिस नहीं खुलेगी, आओ आगे चलें। 
आगे गए तो एक पूरा नगर उदास और सुनसानन था,  क्योंकि रानी के संतान होने वाली थी। रानी तकलीफ में थी। पार्वतीजी बोलीं मेरे तो गांठ बांध दो, इतना दुःख पाना पड़े तो गांठ बंधी हुई अच्छी है। पार्वतीजी के हठ को देखकर भगवान  ने गांठ बांध दी। 
सैर करने के बाद जब वह लौटने लगे तो देखा जो नगर उदास था, वहां रानी के लड़का हुआ था। बाजे बज रहे थे, बधाइयां बंट रही थीं, सब खुश थे। पार्वतीजी बोलीं महाराज मेरी भी गांठ खोल दो, मुझे भी बच्चा चाहिए। आगे आने पर घोड़ी का बच्चा उसे आगे-पीछे घूम रहा था। पार्वतीजी बहुत खुश हुईं और उन्हें देखकर बोलीं कि ऐसा बेटा मुझे भी चाहिए। मेरी गांठ खोल दो। आगे गए  तो गाय के बछड़ा हुआ था और वह उसे प्यार कर रही थी।  पार्वतीजी बोलीं मुझे भी बच्चा चाहिए, मेरी गांठ खोल दो। शिवजी बोले ' दी हुई गांठ अब नहीं खुल सकती। ' 
घूमने के बाद दोनों कैलाश पर्वत पर लौटे। एक दिन पार्वती जी ने अपने शरीर पर उबटन लगाया। फिर उसे उतार कर मैल का पुतला बनाया। पुतले को जीवनदान देकर उसे दरवाजे पर पहरे के लिए बैठा दिया और कहा कि किसी को भी अंदर नहीं आने देना, मैं नहाने जा रही हूं। थोड़ी देर में वहां शिवजी आए। महाराज आप अंदर नहीं जा सकते मेरी मां नहा रही है- पुतला बोला। महादेवजी ने बोले कौन मां? कहकर त्रिशूल मारा तो उसकी गर्दन उतर गई। वे अंदर चले गए। पार्वतीजी बोलीं आपको किसी ने रोका नहीं क्या? महादेव जी बोले एक जिद्दी लड़का रोक रहा था, मैंने गुस्से में उसकी गरदन उतार कर अंदर आया हूं। पार्वतीजी बोलीं वह मेरा बेटा था, उसको वापस जीवित करो। महादेव जी ने अपने गणों को आज्ञा दी कोई मां अपने बच्चे की ओर पीठ करके सोई हो तो उसके बच्चे की गरदन उतार कर ले आओ। 
शिवजी के गण चारों ओर गए। सब माताएं अपने बच्चों की ओर मूंह करके सोई हुईं थी, लेकिन एक हथिनी अपने बच्चे की ओर पीठ करके सोई हुई थी। गण उस बच्चे की गरदन उतारकर लाए और लाकर पुतले के लगा दी। बच्चा जिंदा हो गया। पार्वतीजी उसका विचित्ररूप देखकर बोलीं, इसे कोई भी पसंद नहीं करेगा। शिवजी बोले इसका नाम गंणेश होगा। संसार में सब लोग कोई भी पूजा करने से पहले गणेश ( गणपति ) की पूजा करेंगे, फिर  दूसरी पूजा करेंगे। पार्वतीजी गणेश जी जैसा पुत्र  पाकर बहुत खुश हुईं। हे महादेवजी महाराज !   पार्वतीजी को बेटा दिया वैसे हम सबको देना। भूल -चूक क्षमा करना। 


Gangaur ki Kahaani (5)

Ek raja tha aur uska ek maali tha. Raja ne boya chana aur maali ne boi dub. Raja ke chana badhta gaya aur maali ki dub ghat ti gayi. Maali ne socha ki ye kya baat hai, raja ke chana badhta jaa raha hai aur meri dub ghat ti jaa rahi hai. Ek din vo chupkar baith gaya aur usne dekha ki ladkiya dub lene aai hai. Usne ladkiyon ko rokkar pucha kit um log meri dub kyun le jaati ho, aur kisi ka odhna cheen liya. Ladkiyan boli hum solah (16) din gangaur puja kar rahi hai isiliye dub leti hai. 16 din ke baad hum tumhe seera, puri, laapsi, fal laakar dege, tab maali ne unki odhniya wapas kar di. 16 din baad ladkiyon ne khaane ka saaman laakar maali ke ghar par diya. Maali ki maa ne saara saaman kamre mein rakh liya. Shaam ko jab maali ghar aaya, apni maa se kaha bohut bhookh lagi hai. Maa ne kaha aaj ladkiya bohut khaane ka saaman dekar gayi hai, kamre mein rakha hai, kholkar kha lo. Maali se kamre ka dawaza nahi khula. Tab maali ki maa ne roli, kaajal aur mehandi ke cheete darwaze par diye toh kamre ka darwaza khul gaya. Kamre mein esar (shiv) aur gaura (Parvati) baithe hue the. Esarji toh pecha baandh rahe the aur Gaura pecha sanwar rahi thi. Ve bohut khushthe. Chaaro aur heere moti the. Sab cheezo se bhandaar bhara tha. Uske darshan kar maa bête bohut khush hue. Eshwar se prarthna hai ki, esarji jaisa bhagya aur Gauraji jaisa suhaag sabko dena.

गणगौर की कहानी (5)
एक राजा था और उसका एक माली था। राजा ने बोया चना और माली ने बोई दूब। राजा के चना बढ़ता गया और माली की दूब घटती गई। माली ने सोचा कि यह क्या बात है राजा के चना बढ़ता जा रहा है और मेरी दूब घटती जा रही है। एक दिन वह छुपकर बैठ गया और उसने देखा कि लड़कियाँ दूब लेने आई  हैं। उसने लड़कियों को रोककर पूछा कि तुम लोग मेरी दूब क्यों ले जाती हो और उनका ओढ़ना छीन लिया। लड़कियां बोलीं हम सोलह 16  दिन गणगौर की पूजा कर रही  हैं इसलिए दूब लेती हैं। 16 दिन के बाद हम तुम्हें सीरा पुड़ी लापसी फल लाकर देगें तब माली ने उन्हें उनकी ओढ़नियां वापस कर दीं। 16 दिन बाद लड़कियों ने खाने का सामान लाकर माली के घर पर दिया। माली की मां ने सारा सामान कमरे में रख लिया। शाम को जब माली घर आया अपनी मां से कहा बहुत भूख लगी है। माँ ने कहा आज लड़कियाँ बहुत खाने का सामान देकर गईं हैं कमरे में रखा है खोलकर खा लो। माली से कमरे का दरवाजा नहीं खुला। तब माली की मां ने रोली, काजल और मेंहदी के छींटे दरवाजे पर दिए तो कमरे का दरवाजा खुल गया। कमरे में ईसर ( शिव ) गौरा (पार्वती) बैठे हुए थे। ई सर जी तो पेंचा बांध रहे थे और गौरा पेच सवांर रही थी। वे बुहत खुश थे। चारों और हीरे मोती थे। सब चीजों से भण्डार भरा था। उनके दर्शन कर मां बेटे बहुत खुश हुए। ईश्वर से प्रार्थना है कि ईसर जी जैसा भाग्य और गौराजी जैसा सुहाग सबको देना।


Lapsi Tapsi ki Kahaani

Ek Lapsi tha, ek Tapsi tha. Tapsi toh bhagwan ki tapasya karta tha aur lapsi sava ser laapsi banakar bhagwan ko bhog lagakar kha leta tha,

Ek din dono ladne lage. Lapsi bola mein bada aur tapsi bola mein bada hu. Itne mei Naaradji wahan padhare. Unhone pucha kit um dono kyun lad rahe ho. Tapsi ne kaha ki mein bada hun kyunki mein saare din tapasya karta hu. Naaradji ne kaha mein tumhara faisla kar duga. Dusre din Naaradji ne sava sava crore rupee ki anguthi unke aage gira di. Tapsi ne anguthi ghutne ke neeche chipakar rakh li aur tapasya karne laga.  Lapsi ne anguthi dekhakar use wahin chodh di aur laapsi ka bhog bhagwan ko lagakar kha gaya.

Doosre din Naaradji aaye aur tab dono ne pucha ki hum dono mein kaun bada hai? Naaradji ne Tapsi se pucha tumhare ghutne ke niche kya hai? Tapsi ne ghutna uthaya toh wahaan sava crore rupee ki anguthi nikli. Naaradji ne kaha itna tap aur dhyaan karne ke bawajud bhi tumhari chori karne ki aadat nahi gayi. Tumhari tapasya ka fal bekaar jayega. Isiiye lapsi bada hai. Tapsi bola maharaj mujhe meri tapasya ka fal kaise mil sakta hai? Naaradji ne kaha sab kahaniya kehne ke baad tumhari kahaani nahi kahege toh unka fal tumhe milega. Tab se sab kahaani kehne ke baad Lapsi Tapsi ki kahaani bhi kehte hai.

लपसी तपसी की कहानी 

एक लपसी था, एक तपसी था। तपसी तो भगवान की तपस्या करता था और लपसी सवा सेर लपसी बनाकर भगवान को भोग लगाकर खा लेता था। 
एक दिन दोनों लड़ने लगे। लपसी बोला मैं बड़ा और तपसी बोला मै बड़ा हूं। इतने में नारद जी वहां पधारे। उन्होंने पूछा कि तुम दोनों क्यों लड़ रहे हो। तपसी ने कहा कि मैं बड़ा हूं क्योंकि मैं सारे दिन तपस्या करता हूं। नारद जी ने कहा मैं तुम्हारा फैसला कर दूंगा। दूसरे दिन नारद जी ने सवा-सवा करोड़ रुपए की अंगूठी उनके आगे गिरा दी। तपसी ने अंगुठी घुटने के नीचे  छिपाकर रख ली और तपस्या करने लगा।  लपसी ने अंगूठी देखकर उसे वहीं छोड़ दी और लपसी का भोग भगवान  को लगाकर खा लिया। 
दूसरे दिन नारद जी आए और तब दोनों ने पूछा कि हम दोनों में कौन बड़ा है? नारद जी ने तपसी से पूछा तुम्हारे घुटने के नीचे क्या है? तपसी ने घुटना उटाया तो वहां सवा करोड़ रुपए की अंगुठी निकली। नारद जी ने कहा इतना तप और ध्यान करने के बावजूद भी तुम्हारी चोरी करने की आदत नहीं गई। तुम्हारी तपस्या का फल बेकार जाएगा। इसलिए लपसी बड़ा है । तपसी बोला महाराज मुझे मेरी तपस्या का फल कैसे मिल सकता है? नारद जी ने कहा सब कहानियां कहने के बाद तुम्हारी  कहानी नहीं कहेंगे तो उनका फल तुम्हें मिलेगा। तब से सब कहानी कहने के बाद लपसी तपसी की कहानी भी कहते हैं।


Vinayakji ki Kahaani

Ek baar vinayak ji chotte ladke ke roop mein chimti mein chaawal aur chamach mein dudh lekar gaav mein ghum rahe the aur keh rahe the ki koi iski kheer bana do. Ek budhi mai boli ki laa mein kheer bana du. Woe k katora le aai tab Vinayakji bole katora kyun lai, bhagona laakar chadha de. Vo budhiya boli itne bade bhagone ka kya karoge, katori hee bahut hai. Vinayakji ne kaha tum bhagona chadhakar toh dekho. Budhi mai ne bhagona chadhakar chamach ka dudh usme daala toh bhagona dudh se bhar gaya. Vinayakji maharaj bole budhi mai mein baahar jaa raha hun, aap kheer banakar rakhna. Kheer banker tayaar ho gai aur Vinayakji maharaja aye hee nahin. Budhi mai ka mann kheer khaane ka hua. Usne katora bhar kheer lekar darwaze ke piche baithkar Vinayakji maharaj ko dhyaan kar pranaam kar boli, “Vinayakji maharaj bhog lagao aur kheer khaane lagi.” Tabhi Vinayakji aaye , budhi mai boli “Kheer ban gayi hai, kha lo.” Vinayakji bole maine toh kheer kha li. Tumne jab mujhe bhog lagakar kheer khai thi tab maine khaa li. Budhi mai boli itni kheer ka kya kare? Vinayakji bole sabko kheer khilao. Sabko kheer khilane ke baad bhi kheer ka bhagona khali nahin ho raha tha. Vinayakji maharaj jaise aapne budhi mai ko diya vaise hum sab ka bhandaar bhi humesha bhara rakhna.

विनायक जी की कहानी 

एक बार विनायक जी छोटे लड़के के रूप में चिमटी में चावल और चम्मच में दूध लेकर गांव में घूम रहे थे और कह रहे थे कि कोई इसकी खीर बना दो। एक बुढ़िया माई बोली कि ला मैं खीर बना दूं। वह एक कटोरा ले आई तब विनायक जी बोले कटोरा क्यों लाई भगोना लाकर चढ़ा दे। वह बुढिया बोली इतने बड़े भगोने का क्या करोगे, कटोरा ही बहुत है। विनायक जी ने कहा तुम भगोना चढ़ा कर तो देखो। बुढ़िया माई ने भगोना चढ़ा कर चम्मच का दूध उसमें डाला तो भगोना दूध से भर गया। विनायक जी महाराज बोले बुढ़िया माई मैं बाहर जा रहा हूं, आप खीर बना कर रखना। खीर बनकर तैयार हो गई और विनायक जी महाराज आए ही नहीं। बुढ़िया माई का मन खीर खाने का हुआ। उसने कटोरा भर खीर लेकर दरवाजे के पीछे बैठकर विनायजी महाराज को ध्यान कर प्रणाम कर बोली विनायक जी महाराज भोग लगाओ और खीर खाने लगी। तभी विनायक जी आए बुढ़िया माई बोली खीर बन गई है खा लो। विनायक जी बोले मैं तो  खीर खा ली। तुमने जब मुझे भोग लगाकर खीर खाई थी तब मैंने खा ली। बुढ़िया बोली इतनी खीर का क्या करें। विनायक जी बोले सबको खीर खिलाओ। सबको खीर खिलाने के बाद भी खीर का भगोना खाली नहीं हो रहा था। विनायक जी महाराज जैसे आपने बुढ़िया माई को दिया वैसे हम सब का भंडार भी हमेशा भरा रखना।


Samapan Kahaani

Blog posts

  • There are no blog posts to display.

Footer

Powered by Wild Apricot Membership Software